न्यूयार्क में बड़ा हादसा: हीटर में गड़बड़ी से बहुमंजिला इमारत में लगी भीषण आग, 19 की मौत, 32 गंभीर

न्यूयार्क में बड़ा हादसा: हीटर में गड़बड़ी से बहुमंजिला इमारत में लगी भीषण आग, 19 की मौत, 32 गंभीर

न्यूयॉर्क। अमेरिका (America) के न्यूयार्क सिटी (New York City) में हीटर (heater) के कारण भीषण हादसा हो गया है। इस भीषण हादसे में 9 बच्चों समेत 19 लोगों की मौत (19 people died including 9 children) हो गई है। जबकि 32 लोग गंभीर रूप से झुलस गए हैं, जिनमें नौ की हालत चिंताजनक बताई जा रही है। जानकारी के मुताबिक एक स्पेस हीटर में गड़बड़ी के चलते आग लग गई और देखते ही देखते ब्रॉन्क्स अपार्टमेंट (Bronx Apartments) धुंए की अगोश में आ गया। जिसके कारण दम घुटने से 19 लोगों की मौत हो गई।

फायर कमिश्नर डेनियल निग्रो (fire commissioner daniel nigro) के अनुसार इलेक्ट्रिक स्पेस हीटर (electric space heater) में गड़बड़ी के चलते आग लग गई। 19 मंजिला इमारत के दूसरे और तीसरे फ्लोर में आग लगने के चलते धुंआ भर गया और इसमें लोगों की जानें चली गईं।  नीग्रो ने कहा कि यह दुखद घटना है। एक डुप्लेक्स अपार्टमेंट में सूचना मिलते ही तीन अग्नि शमन वाहन मात्र तीन मिनट के भीतर मौके पर पहुंच गए थे। पूरी इमारत में धुआं भर गया था। हताहतों को निकालने के लिए भारी मशक्कत करना पड़ी। कई लोगों की झुलसने से तो कई की दम घुटने से मौत हो गई।

वहीं न्यूयॉर्क के मेयर एरिक एडम्स (New York Mayor Eric Adams) ने घटना की पुष्टि की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि रविवार को हुई इस घटना में हमने 19 लोगों को खो दिया। यह दुखद घटना है। मृत लोगों के लिए मेरे साथ प्रार्थना कीजिए, खासकर नौ मासूम बच्चों के लिए। उन्होंने न्यूयॉर्क शहर के अग्नि शमन विभाग को आग पर तेजी से काबू पाने के लिए धन्यवाद दिया।

बचने के लिए तोड़ीं खिड़कियां, दरवाजों पर लटकाए गीले तौलिये
उन्होंने कहा कि अपार्टमेंट का गेट खुला हुआ था, जिसके चलते पूरी इमारत में तुरंत धुंआ फैल गया। अपार्टमेंट्स में फंसे बहुत से लोगों ने दम घुटने पर खिड़कियों के शीशे तोड़ डाले और दरवाजों पर गीले तौलिये लटका लिए। फायर फाइटर्स ने बड़ी मशक्कत के साथ एक युवक को बचाया। उसने कहा कि मैं इतना ज्यादा घबराहट में था कि हर बार फायर अलार्म की बजाय गलत अलार्म बजा देता था। निग्रो ने कहा कि तमाम प्रयासों के बाद भी कुछ लोगों को नहीं बचाया जा सका। इसकी वजह यह थी कि धुंआ बहुत ज्यादा भर गया था। बचावकर्मियों को हर फ्लोर पर पीड़ित लोग मिले। ज्यादातर लोगों के श्वसन तंत्र पर बहुत गहरा असर हुआ था।