छत्तीसगढ़ में आंगनवाड़ी का खाना खाने के बाद बच्चों को पेट दर्द और दस्त की शिकायत, अस्पताल में भर्ती

बच्चे विशेष रूप से कमजोर जनजातीय समूह से ताल्लुक रखते हैं, उन्हें फूड पॉइजनिंग हुई, Children belonging to a particularly vulnerable tribal group got food poisoning

छत्तीसगढ़ में आंगनवाड़ी का खाना खाने के बाद बच्चों को पेट दर्द और दस्त की शिकायत, अस्पताल में भर्ती

रायपुर। छत्तीसगढ़ के एक आंगनवाड़ी केंद्र में मिड-डे मील खाने से करीब सात आदिवासी बच्चे बीमार हो गए हैं। खाना खाने के बाद बच्चों को पेट में दर्द और दस्त की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस दौरान कुछ बच्चे बेहोश हो गए। अधिकारियों का कहना है कि गांव के एक समारोह में मिठाई खाने से बच्चों की तबीयत खराब हुई है। जशपुर जिले में हुई है।

बच्चों को कमजोर जनजातीय समूह से ताल्लुक
अधिकारी का कहना है कि यही क्वालिटी वाला खाना कई गांवों में परोसा गया था, लेकिन वहां से इस तरह की कोई शिकायत नहीं आई है। अधिकारियों ने बताया कि बच्चे विशेष रूप से कमजोर जनजातीय समूह से ताल्लुक रखते हैं और उन्हें फूड पॉइजनिंग हो गई है। उन्हें सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी हालत स्थिर है।

गांव के समारोह में मिठाई खाने से बिगड़ी सेहत
जानकारी के अनुसार, जशपुर जिले के बघीचा ब्लॉक के आंगनवाड़ी केंद्र में रेडी टू ईट खाना परोसा गया था। गर्मियों की वजह से शायद खाना बासी हो गया होगा। चूंकी अधिकारियों का कहना है बच्चों ने गांव के एक समारोह में हिस्सा लिया था और वहां कई तरह की चीजें खाई थीं, इससे ऐसा लगता है कि कुछ मिठाईयों से उनकी सेहत पर प्रभाव पड़ा है।

रेडी टू ईट फूड की जांच 
जशपुर के कलेक्टर रितेश अग्रवाल का कहना है कि यह फूड पॉइजनिंग का मामला है। बच्चों द्वारा गांव में भोज खाने और रेडी टू ईट फूड की जांच की जा रही है। जल्द ही इसकी जानकारी सामने आ जाएगी। खाने के सैंपल को इकट्ठा करके जांच के लिए लैब भेज दिया गया है। वहीं बच्चों की निगरानी की जा रही है और उनका सही इलाज सुनिश्चित किया जा रहा है। 

इस पहलू की भी होगी जांच
इसकी भी जांच की जा रही है कि क्या सभी बच्चों ने आंगनवाड़ी का खाना और ग्राम भोज खाया था। इसके अलावा गांव में बांटी गई मिठाई के स्रोत का पता चल गया है। यह मामला ऐसे समय पर सामने आया है जब एक दिन पहले बिलासपुर में एक नाबालिग लड़की की मौत और लगभग 25 बच्चे पानी पूरी खाने से बीमार हो गए थे।