रूस ने तैयार किया सबसे भारी सुपरसोनिक लड़ाकू विमान

लड़ाकू विमान ने 600 मीटर की ऊंचाई पर 30 मिनट तक उड़ान भरी

रूस ने तैयार किया सबसे भारी सुपरसोनिक लड़ाकू विमान

रूस की टुपोलेव पब्लिक ज्वाइंट स्टॉक कंपनी के बॉम्बर सुपरसोनिक लड़ाकू विमान ने पहली बार उड़ान भरी है। यह दुनिया का सबसे भारी सुपरसोनिक विमान है। ये मिसाइल हमले करने में सक्षम है। रूसी सेना के पायलटों ने इसका उपनाम व्हाइट स्वान रखा है। इसने पहली आसमानी उड़ान कजान एविएशन एंटरप्राइज के हवाई क्षेत्र में भरी है।

30 मिनट तक भरी उड़ान
रूस की समाचार एजेंसी ने कहा कि लड़ाकू विमान ने 600 मीटर की ऊंचाई पर 30 मिनट तक उड़ान भरी। इसमें लगे उपकरण 80 फीसदी तक आधुनिक और अपग्रेडेड हैं। यह परमाणु और दूसरे पारंपरिक हथियारों से दूर दराज के क्षेत्रों पर हमला करने का काम करेगी।

सुपरसोनिक बॉम्बर रूस की ताकत
रूस यह विमान ऐसे समय में लेकर आया है, जब अमेरिका बॉर्डर से सैनिकों को पीछे करने का दबाव बना रहा है। रूस ने यूक्रेन से लगने वाली अपनी सीमा पर सैनिकों तैनात कर रखा है। इसको अमेरिकी नेतृत्व वाला सैन्य गठबंधन ब्लैकजैक कहता है। मिसाइल क्षमता से लैस सुपरसोनिक बॉम्बर को रूसी वायु सेना की बड़ी ताकत माना जाता है।

यूक्रेन के कारण तनाव
अमेरिका और रूस के बीच यूक्रेन के कारण तनाव चल रहा है। यूएस ने आशंका जताई है कि रूस यूक्रेन पर हमला कर सकता है, इसलिए सीमा से अपने सैनिकों को नहीं हटा रहा है। हालांकि रूस सरकार ने कहा है कि हमला करने का कोई इरादा नहीं है।