केन्द्र ने राज्यों को किया आगाह: आक्सीजन का इतने घंटे का रखें बफर स्टॉक, कोरोना के उभरते हालात चिंताजनक

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) ने सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को लिखे पत्र में कहा है कि कोरोना महामारी के कारण उभरते हालातों को देखते हुए तत्काल कदम उठाने की जरूरत है।

केन्द्र ने राज्यों को किया आगाह: आक्सीजन का इतने घंटे का रखें बफर स्टॉक, कोरोना के उभरते हालात चिंताजनक

नई दिल्ली। भारत (India) में कोरोना की तीसरी लहर (third wave of corona) कोहराम मचा रही है। बीते कुछ दिनों से देश भर में एक लाख से अधिक मरीज (more than a million patients) हर दिन मिल रहे हैं। तीसरी लहर का सबसे कहर महाराष्ट्र (Maharashtra), दिल्ली (Delhi), पश्चिम बंगाल (West Bengal), केरल (Kerala) और तमिलनाडु (Tamil Nadu) में दिखाई दे रहा है। जिसके कारण केन्द्र से लेकर राज्य सरकारों तक की टेंशन बढ़ गई है। इस बीच केन्द्र सरकार (central government) ने आक्सीजन का बफर स्टॉक बढ़ाने के लिए राज्यों को खत लिखा है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) ने सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को लिखे पत्र में कहा है कि कोरोना महामारी के कारण उभरते हालातों को देखते हुए तत्काल कदम उठाने की जरूरत है। वहीं आगे कहा है कि सभी स्वास्थ्य केन्द्रों पर मेडिकल आक्सीजन (medical oxygen) की पर्याप्त उपलब्धता यानि 48 घंटे का बफर स्टॉक सुनिश्चित किया जाना चाहिए। इसके साथ ही आक्सीजन कंट्रोल रूम (oxygen control room) को भी पुन: मजबूत करने की बात कही।

राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण (Union Health Secretary Rajesh Bhushan) ने लिखे अपने पत्र में कहा कि राज्य अपनी मेडिकल आक्सीजन सेवाओं व सुविधाओं का आकलन करें। यह उपलब्ध कराने वाले निजी संस्थानों की क्षमताओं का भी आकलन किया जाना चाहिए। पीक के समय मांग बढ़ने पर आपूर्ति बढ़ाने की रणनीति भी तैयार की जाए। भूषण ने कहा कि अस्पतालों में एलएमओ टैंकों को पर्याप्त रूप से भरा जाना चाहिए और उनकी रिफिलिंग के लिए निर्बाध आपूर्ति श्रृंखला सुनिश्चित की जानी चाहिए।

देश भर में पीएसए संयंत्रों के साथ अस्पतालों को मजबूत किया गया है। इन संयंत्रों को पूरी तरह चालू रखना जरूरी है। उन्होंने यह भी कहा है कि सभी जिलों को अपने यहां स्थित अस्पतालों में जीवन रक्षक उपकरणों, जिनमें वेंटिलेटर, बाइपेप, एसपीओ2 सिस्टम शामिल हैं, उभरती जरूरतों के अनुसार उपलब्ध हों, यह भी सुनिश्चित करना चाहिए।

देश में कोरोना की स्थिति
कुल मामले: 3,60,70,510
सक्रिय मामले: 9,55,319
कुल रिकवरी: 3,46,30,536
कुल मौतें: 4,84,655
कुल वैक्सीनेशन: 1,53,80,08,200
ओमिक्रोन के मामले: 4,868