सुंदर पिचाई ने बताया रिलैक्स करने का फॉर्मूला

नींद न आए या भटके ध्यान तो नॉन स्लीप डीप रेस्ट है कारगर

सुंदर पिचाई ने बताया रिलैक्स करने का फॉर्मूला

स्ट्रेस फ्री रहने के लिए दुनिया भर के लोग अलग अगल तरीका अपनाते हैं। दुनियाभर में बिजनेस टायकून ध्यान करते हैं। लेकिन दुनिया की सबसे बड़ी टेक कंपनियों में से एक गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई अलग तरीके से खुद को रिलैक्स करते हैं। पिचाई ने खुलासा किया है कि वे काम का तनाव कम करने के लिए  नॉन-स्लीप डीप रेस्ट का सहारा लेते हैं। पिचाई ने बताया कि एक पॉडकास्ट के जरिए उन्हें इस बात की जानकारी मिली थी। इसमें बिना सोए गहरे आराम के जरिए आप अपने शरीर को दोबारा काम करने लायक बना लेते हैं। पिचाई ने बताया,  जब भी मुझे ध्यान करने में मुश्किल होती है तो मैं एनएसडीआर संबंधी वीडियो खोजता हूं।  

क्या होता है नॉन स्लीप डीप रेस्ट?
नॉन स्लीप डीप रेस्ट को स्टैनफोर्ड न्यूरोसाइंस के प्रो. एंड्रयू ह्यूबरमैन ने ईजाद किया था।नॉन स्लीप डीप रेस्ट में व्यक्ति आंख बंद कर बिस्तर या जमीन पर लेट जाता है। फिर किसी एक चीज पर अपना ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करता है। ह्यूबरमैन के मुताबिक, एनएसडीआर लोगों को आराम करने, अधिक आसानी से सोने, तनाव और चिंता को कम करने, दर्द को कम करने और यहां तक कि सीखने में तेजी लाने में मदद कर सकता है। यह टेक्नीक एक तरह से योगनिद्रा जैसा है। प्राचीन काल में सबसे पहले ऋग्वेद में इसका जिक्र मिलता है। वहीं उपनिषदों में भी इसका उल्लेख है।