यूक्रेन ने किया बड़ा खुलासा: विद्रोह के दौरान रूस के परमाणु जखीरे पर कब्जा करने की फ़िराक में था वैगनर ग्रुप 

रूस और यूक्रेन की जंग लगातार जारी है। इसे एक लंबा अरसा बीत गया है। इधर, रूस के परमाणु भंडार को लेकर यूक्रेन ने बड़ा खुलासा किया है। कहा जा रहा है कि हाल ही में जब 24 जून को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ उसकी निजी सेना ने विद्रोह कर दिया था, उस दौरान वैगनर समूह परमाणु हथियारों पर कब्जा करना चाहता था। हालांकि, पश्चिमी अधिकारियों ने बार-बार इस बात से साफ इनकार किया है।

यूक्रेन ने किया बड़ा खुलासा: विद्रोह के दौरान रूस के परमाणु जखीरे पर कब्जा करने की फ़िराक में था वैगनर ग्रुप 

कीव। रूस और यूक्रेन की जंग लगातार जारी है। इसे एक लंबा अरसा बीत गया है। इधर, रूस के परमाणु भंडार को लेकर यूक्रेन ने बड़ा खुलासा किया है। कहा जा रहा है कि हाल ही में जब 24 जून को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ उसकी निजी सेना ने विद्रोह कर दिया था, उस दौरान वैगनर समूह परमाणु हथियारों पर कब्जा करना चाहता था। हालांकि, पश्चिमी अधिकारियों ने बार-बार इस बात से साफ इनकार किया है। उनका कहना है कि विद्रोह के दौरान रूस का परमाणु भंडार कभी खतरे में नहीं था।  

Read More: नेपाल में छह लोगों को लेकर जा रहा एक हेलिकॉप्टर लापता, इनमें पांच विदेशी नागरिक शामिल

परमाणु अड्डे तक पहुंच गए थे वैगनर लड़ाके 
यूक्रेन के सैन्य खुफिया प्रमुख काइरलो बुडानोव ने बताया कि वैगनर लड़ाके परमाणु अड्डे तक पहुंच गए थे और उनका इरादा सोवियत काल के छोटे परमाणु उपकरण हासिल करना था। उन्होंने कहा कि अगर कोई अंतिम व्यक्ति के खड़े होने तक लड़ने के लिए तैयार हैं, तो परमाणु हथियार उन सुविधाओं में से एक है जो दांव को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ा देती है। उन्होंने कहा कि वैगनर समूह के सामने परमाणु भंडारण के पास पहुंचने में एक बाधा बनी वो थे बंद दरवाजे। इसलिए वे तकनीकी क्षेत्र तक नहीं जा सके। 

Read More: अवंतिका एक्सप्रेस के स्लीपर कोच में जनरल यात्रियों की भीड़ से नाराज यात्रियों ने तीन टीटीई को बनाया बंधक

सैन्य संबंधों वाले क्रेमलिन के एक करीबी सूत्र ने बताया कि वैगनर की एक टीम एक ऐसे क्षेत्र में घुसने में कामयाब रही थी, जहां परमाणु हथियार संग्रहीत हैं। ऐसे में अमेरिका घबरा गया था। इसी को लेकर, क्रेमलिन ने रूस को बेलारूसी राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको की मध्यस्थता में वैगनर समूह के साथ जल्दबाजी में बातचीत करने के लिए प्रेरित किया था।

अमेरिका ने कहा- परमाणु हथियार पर कब्जा करने की कोई जानकारी नहीं 

व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता एडम हॉज ने परमाणु हथियार पर कब्जा करने वाली बात पर कहा कि उन्हें ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है। हॉज ने कहा कि हम इस रिपोर्ट की पुष्टि नहीं कर सकते, क्योंकि किसी भी समय परमाणु हथियार को खतरा होने का संकेत नहीं मिला था। 

 

Read More: भारी बारिश से पानी-पानी हुई दिल्ली, यमुना के जलस्तर ने खतरे के निशान को किया पार, बाढ़ का खतरा

फेडरेशन ऑफ अमेरिकन साइंटिस्ट्स में परमाणु सूचना परियोजना के एक वरिष्ठ अनुसंधान सहयोगी और परियोजना प्रबंधक मैट कोर्डा ने कहा कि रूसी परमाणु सुरक्षा का उल्लंघन करना किसी के लिए भी असंभव होगा।

Read More: देश के आठ राज्यों में बाढ़ और बारिश से भारी तबाही, 24 घंटे में 44 लोगों की मौतें- घर और सड़कें बही

 

रूसी सेना भी कर रही प्रिगोझिन का समर्थन 

यूक्रेन की राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा परिषद के सचिव ओलेक्सी डेनिलोव ने कहा कि रूसी सेना में कई लोग वैगनर समूह के प्रमुख येवगेनी प्रिगोझिन के पक्ष में हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे कई कमांडर हैं जो वैगनर के प्रति सहानुभूति रखते हैं और पुतिन का समर्थन नहीं करना चाहते हैं। उन्होंने दावा किया कि कम से कम 14 रूसी जनरलों ने प्रिगोझिन का समर्थन किया है।