गाजा में मारे गए 15,200 से ज्यादा लोग

70 फीसदी महिलाएं और बच्चे

गाजा में मारे गए 15,200 से ज्यादा लोग

गाजा ।  हमास द्वारा संचालित स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को बताया कि गाजा में मरने वालों का आंकड़ा 15,200 के पार हो गया  है। मारे गए लोगों में 70 फीसदी महिलाएं और बच्चे हैं।   इस्राइल और हमास के बीच एक हफ्ते का संघर्ष विराम खत्म होने के बाद आईडीएफ ने नए सिरे से हमले तेज कर दिए हैं। इस बीच, गाजा में मरने वालों की संख्या 15,200 से ज्यादा हो गई है। मारे गए लोगों में 70 फीसदी महिलाएं और बच्चे हैं। हमास द्वारा संचालित स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी है।  मंत्रालय के प्रवक्ता अशरफ अल-किदरा ने शनिवार को इस आंकड़े की घोषणा की। हालांकि, उन्होंने इस बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दिए गए पिछले आंकड़ों में मृतकों की संख्या 13,300 से अधिक बताई गई थी।  अल-किदरा ने मौत के आंकड़े में तेज उछाल के बारे में विस्तार से नहीं बताया। मंत्रालय 11 नवबर के बाद से केवल छिटपुट अपडेट ही दे पा रहा था, क्योंकि युद्ध के बीच उसे कनेक्टिविटी और अस्पताल संचालन संबंधी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। मंत्रालय नागरिकों और हमास के लड़ाकों की मौत के बीच अंतर नहीं करता है। हालांकि, अल-किदरा ने बताया कि 40 हजार से ज्यादा लोग घायल हुए हैं।  एक हफ्ते के संघर्ष विराम के बाद इस्राइल ने हमले तेज कर दिए हैं, जिससे नए सिरे से लोगों के हताहत होने की चिंताएं बढ़ गईं हैं। अमेरिका ने अपने सहयोगी इस्राइल से नागरिकों की रक्षा करने के लिए हर संभव प्रयास करने का आग्रह किया है।  अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने शुक्रवार को दुबई में खाड़ी देशों के विदेश मंत्रियों के साथ बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा, 'यह (इस्राइल-हमास युद्ध) आगे चलकर बहुत महत्वपूर्ण होने जा रहा है। इस पर हम बहुत करीब से नजर बनाए हुए हैं।' युद्ध शुरू होने के बाद से ब्लिंकन का पश्चिम एशिया में यह तीसरा दौरा था।  इस्राइल ने शनिवार को दक्षिण गाजा के खान यूनिस इलाके में कई हमले किए। सेना ने कहा कि उसने हमास के पचास से ज्यादा ठिकानों पर हवाई, टैंक फायर और नौसेना से हमले किए हैं। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, इस्राइली सेना ने निवासियों को स्थान छोड़ने की चेतावनी देने से एक दिन पहले पर्चे गिराए थे, लेकिन शुक्रवार देर रात तक बड़ी संख्या में लोगों के जाने की कोई रिपोर्ट नहीं थी।  एमद हजर खान यूनिस में शरण लेने के लिए एक महीने पहले उत्तरी शहर बेत लाहिया से अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ आए थे। उन्होंने कहा, कहीं जाने के लिए कोई जगह नहीं है। उन्होंने हमें उत्तर से बाहर निकाल दिया है और अब वे हमें दक्षिण छोड़ने के लिए भी मजबूर कर रहे हैं।  इस्राइली ने कहा कि उसने उत्तर में भी हमले किए और गाजा पट्टी में अबतक 400 से अधिक ठिकानों को निशाना बनाया है। लगभग दो मिलियन लोग  (गाजा की लगभग पूरी आबादी) क्षेत्र के दक्षिण में फंसे हुए हैं। युद्ध के शुरूआत में इस्राइल ने लोगों को उत्तर से यहां स्थानांतरित होने को कहा था। इसके बाद उसने जमीनी अभियान शुरू किया था।