ईरान-इस्राइल संघर्ष से बने हालात चिंताजनक : जयशंकर

इस्राइल ने यूएनएससी की बैठक बुलाने की मांग की

ईरान-इस्राइल संघर्ष से बने हालात चिंताजनक : जयशंकर

 यरुशलम/तेहरान। ईरान ने इस्राइल पर हवाई हमला बोला है। बताया गया है कि ईरान ने इस्राइल पर करीब 200 से ज्यादा ड्रोन्स और मिसाइल दागीं हैं। इनमें बैलिस्टिक मिसाइलें और क्रूज मिसाइलें शामिल हैं। इस हमले के बाद क्षेत्रीय तनाव उभरना तय माना जा रहा है। दोनों देशों के बीच संघर्ष की संभावना को देखते हुए भारत के विदेश मंत्रालय की तरफ से भी बयान जारी किया गया है। गौरतलब है कि सीरिया में कुछ दिन पहले ही एक हमले में ईरान की विशेष सेना 'रेवोल्यूशनरी गार्ड्स' के कुछ सैनिक और कमांडर की जान गई थी। ईरान ने इस हमले के बाद बदला लेने की चेतावनी भी दी थी।  इस्राइल ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) की आपात बैठक बुलाकर ईरानी हमले की निंदा करने और ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड को आतंकी संगठन घोषित करने की मांग की है। यूएन में इस्राइल के दूत ने सोशल मीडिया पोस्ट में कहा, इस्राइल पर ईरानी हमला पूरी दुनिया की शांति व सुरक्षा के लिए खतरा है। मैं उम्मीद करता हूं कि परिषद ईरान के खिलाफ ठोस कार्रवाई करेगी।

अमेरिका समेत कई देशों ने ईरान के हमले की निंदा की
संयुक्त राष्ट्र, अमेरिका, फ्रांस व ब्रिटेन समेत कई देशों ने इस्राइल पर हमले की निंदा की है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने इस्राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से बात की। उन्होंने इस्राइली सुरक्षा के प्रति अमेरिकी प्रतिबद्धता दोहराई। उन्होंने कहा कि अमेरिकी सेना ने लगभग सभी ईरानी ड्रोन व मिसाइलों को मार गिराने में इस्राइल की मदद की। ब्रिटेन ने क्षेत्र में अतिरिक्त लड़ाकू विमान भेजे हैं, ताकि ड्रोन व मिसाइल हमलों का समय रहते पता लगाया जा सके। ईरान द्वारा ड्रोन और मिसाइल हमले के बाद इस्राइल और ईरान में भारतीय राजनयिक मिशनों ने अपने नागरिकों के लिए नई एडवायजरी जारी की है। इसमें मिशन ने भारतीयों से शांत रहने और सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करने की सलाह दी। इसके साथ ही यह भी कहा है कि दोनों देशों में रहने वाले भारतीयों के लिए अतिरिक्त हेल्पलाइन नंबर भी सक्रिय किए गए हैं।