उमेश पाल अपहरण केस में अतीक अहमद सहित 3 दोषियों को उम्रकैद, सभी दोषियों पर 1-1 लाख का जुर्माना

उमेश पाल अपहरण मामले में मुख्य अभियुक्त माफिया अतीक अहमद समेत 3 अभियुक्तों को एमपी-एमएलए कोर्ट के जज डा दिनेश चंद्र शुक्ल ने दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। जबकि 7 आरोपियों को कोर्ट ने बरी कर दिया है।  उमेश पाल की 24 फरवरी को पहले प्रयागराज में हत्या हो गई थी।

उमेश पाल अपहरण केस में अतीक अहमद सहित 3 दोषियों को उम्रकैद, सभी दोषियों पर 1-1 लाख का जुर्माना

प्रयागराज। उमेश पाल अपहरण मामले में मुख्य अभियुक्त माफिया अतीक अहमद समेत 3 अभियुक्तों को एमपी-एमएलए कोर्ट के जज डा दिनेश चंद्र शुक्ल ने दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। जबकि 7 आरोपियों को कोर्ट ने बरी कर दिया है।  उमेश पाल की 24 फरवरी को पहले प्रयागराज में हत्या हो गई थी। उमेश पाल के परिवार ने कोर्ट से माफिया अतीक के खिलाफ मृत्युदंड की मांग की है।

गौरतलब है कि नामजद माफिया अतीक अहमद (Atiq Ahmed) और उसके भाई अशरफ को भारी सुरक्षा के बीच सोमवार शाम नैनी केंद्रीय जेल शिफ्ट कर दिया गया था। अतीक को स्पेशल हाई सिक्योरिटी बैरक में रखा गया था। करीब 12 बजे अतीक अहमद को लेकर पुलिस कोर्ट पहुंच चुकी थी और 12.30 बजे उसे कोर्ट में पेश किया गया। अतीक के साथ में अन्य आरोपी अतीक का भाई अशरफ और तीसरे आरोपी फरहान को अलग-अलग जेल वैन में कड़ी सुरक्षा के बीच कोर्ट ले जाया गया।

Read More: सरकार ने आधार से वोटर आईडी लिंक करने की डेडलाइन बढ़ाई, अब इस तारीख तक होगा ये काम

 

अतीक अहमद को खत्म किया जाए : जया देवी
उमेश पाल की पत्नी जया देवी ने कहा कि जब तक अतीक, उसके भाई, बेटे को खत्म नहीं किया जाएगा तब तक यह आतंक चलता रहेगा। मैं न्यायपालिका के फैसले का सम्मान करती हूं। मैं मुख्यमंत्री जी से चाहूंगी की अतीक अहमद को खत्म किया जाए जिससे उसके आतंक पर भी अंकुश लगे।

Read More: देश में 24 घंटे में कोरोना के 1573 नए मामले, दो हफ्ते के अंदर तेजी से बढ़ा संक्रमण का ग्राफ 

उमेश पाल की मां बोली, मेरे बेटे ने किया बहुत संघर्ष
 कोर्ट के फैसले से पहले उमेश पाल की मां शांती देवी ने प्रयागराज में कहा कि मेरे बेटे ने बहुत संघर्ष किया है। जेल उसका(अतीक अहमद) घर है और वहां से वो कुछ भी करा सकता है। प्रशासन ने अभी तक जो भी कुछ किया है उससे हम संतुष्ट हैं। मेरी यही मांग है कि उसको फांसी की सज़ा हो।

Read More: उमेश पाल अपहरण मामले में अतीक समेत 3 आरोपी दोषी करार, 7 बरी

नैनी जेल में भारी पुलिस बल तैनात
नैनी जेल में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है और भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। वहीं जेल के बाहर मीडिया का जमावड़ा लगा हुआ है। नैनी केंद्रीय जेल के एक उच्च अधिकारी ने जानकारी दी है कि अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ को हाई सिक्योरिटी बैरक में शिफ्ट किया गया है। वहीं दूसरी ओर अतीक अहमद के बेटे अली को एक अन्य बैरक में रखा गया है।


Read More: ईपीएफओ ने दी 5 करोड़ नौकरीपेशा लोगों को खुशखबरी, 2022-23 के लिए बढ़ाई 8.15 प्रतिशत ब्याज दर

जानें क्या है पूरा मामला
यह पूरा मामला बसपा विधायक राजू पाल मर्डर केस में मुख्य गवाह उमेश पाल के अपहरण से जुड़ा हुआ है। 28 फरवरी 2006 को अतीक अहमद और अशरफ ने उमेश पाल का अपहरण कराया था और उसके साथ मारपीट के बाद परिवार सहित सभी को जान से मारने की धमकी देते हुए कोर्ट में जबरन हलफनामा दाखिल कराया गया था। उमेश पाल बसपा विधायक राजू पाल की हत्या के मामले में मुख्य गवाह थे। 2007 में जब उत्तर प्रदेश में मायावती की सरकार बनी तो उमेश पाल ने 5 जुलाई 2007 को अतीक और अशरफ समेत 5 लोगों के खिलाफ नामजद FIR दर्ज कराई। पुलिस की जांच में 6 अन्य लोगों के नाम सामने आए।